न्यूज नेशनल / समाचार पत्रिका व अखबार,

हरिद्वार /बता दें कि जल्द ही उत्तराखण्ड मे ग्राम पंचायत चुनाव कि प्रक्रिया शुरू हो सकती है जिसके चलते ग्रामीण क्षेत्रो मे अब चुनाव रणभूमि मे युवाओ नें भी उतरने का मन बना लिया है,
बहादराबाद ब्लॉक के अंतर्गत आने वाली ऐसी बहुत सी ग्राम पंचायते है जो आज भी विकास को तरस रही है, लेकिन सवाल ये खड़ा होता है कि ज़ब ग्राम पंचायत के चुनाव आते है तो ग्राम प्रधान उम्मीदवार ग्राम वासियों से बड़े बड़े वादे करते है और तरह तरह के लालच भी देते है, जिसके चलते दुर्भाग्य वश पांच वर्षो के लिए ग्राम सभा पर इन्ही ऐसे लोगो का कब्जा हो जाता है जो क्षेत्र का कम और अपना विकास अधिक करते है,
ऐसे ही एक गाँव कि दुर्दशा आप देख सकते है जो हजारा ग्रंट के नाम से जाना जाता है वहाँ के लोगो द्वारा ग्राम के कई ऐसे मुख्य मार्ग दिखाए गए जिन पर आज भी गंदा पानी भरा है, न तो इन लोगो के गाँव मे कोई विकास कार्य प्रधान द्वारा किया गया और न ही सरकार से मिलने वाली किसी योजना का लाभ इन्हे मिला,

अगर हजारा ग्रंट के लोगो कि माने तो प्रधान द्वारा गाँव मे किसी प्रकार का कोई विशेष कार्य नही किया गया जिस कारण वे अब अपने ही क्षेत्र के युवाओ को चुनावी रणभूमि मे उतारने कि तैयारी कर रहे है,

इसी क्षेत्र से एक युवा प्रत्यासी जो जिला पंचायत कि तैयारी कर रहे है जानिये क्या कहते है?

ग्रंट हजारा के राशिद जो कि वर्तमान मे कांग्रेस पार्टी से जिला महासचिव भी है उनके द्वारा बताया गया कि गाँव मे सफाई कि कोई व्यवस्था नही जिस कारण गंदगी अधिक होने के कारण बीमारियाँ फैलने का भय है, वही न तो अच्छे स्कूल कि व्यवस्था है और न ही पानी कि निकासी कि, इतना ही नही शौचालय, तालाब व पंचायत घर से भी गाँव वंचित है राशिद का कहना है कि क्षेत्रीय विकास करने के लिए वे इस बार स्वयं जिला पंचायत चुनाव कि तैयारी कर रहे है,हालाकी अपने गाँव वालो के प्रति एक बार रशीद के बोल भी बिगड़े,लेकिन जल्दी ही उन्होंने स्वयं कि बोली पर काबू पाते हुए, क्षेत्र मे विकास करने कि बात भी कही,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed